Navratri - Happy Navratri 2021 (In Hindi) : हैप्पी नवरात्री 2021 (हिंदी में)

नवरात्री (Navratri) हिन्दू धर्म के लोगो में चली आ रही, अपने
भगवान के प्रति भक्ति और आस्था का भाव है
इन दिनों में लोग पूरी भक्ति भावना के साथ दान
पुन करते है अथवा अपने भगवान के प्रति उनका
प्यार ज़ाहिर करते है ये नवरात्री (Navratri) 9 दिनों के लिए
चलती है जिसमे लोग हर पूर्ण का काम करते है
अथवा आठवे और नवमी के दिन छोटी-छोटी
कन्याओ को कंचक खिलाई जाती है |

You can also read about - Dussehra 2021

हम आपको नवरात्री (Navratri) से जुड़ी हर बात बताएँगे जैसे
नवरात्री (Navratri) क्यू मनाई जाती है इसको मानाने के पीछे
का कारण क्या है अथवा इसको कैसे मनाया जाता
है अथवा लोगो द्वारा पूछे गए सभी प्रश्नों के उतर
भी देंगे |

Navratri - Happy Navratri 2021 (In Hindi) : हैप्पी नवरात्री 2021 (हिंदी में)

[ लोगो द्वारा पूछे गए कुछ मुख्य और जरूरी
प्रश्न ]

\/

नवरात्री (Navratri) क्यू मनाई जाती है ?

क्या आप ये जानते है क़ी नवरात्री (Navratri) क्यू मनाई जाती
है लोग इसको मानते जरूर है लेकिन इनको
मानाने के पीछे का कारण बहुत काम लोगो को है
पता होता है तो इसको मानाने के पीछे का कारण
धर्म क़ी अधर्म पर विजय और सत्य क़ी असत्य
पर विजय विजय का प्रतिक है अगर देखा जाए तो
हिन्दू मान्यताओ के अनुसार इन्ही नौ दिनों में माँ
दुर्गा धरती पर आती है जिसके चलते धरती को
उनका मायका भी कहा जाता है जिसके कारण
उनके आने क़ी ख़ुशी में भारत में हिन्दू धर्म के
अनुसार इन नौ दिनों को बहुत ही धूम-धाम से
दुर्गा पूजा के रूप में मनाया जाता है |

नवरात्री (Navratri) पर्व को मनाने का कारण ?

उस समय सतयुग के पश्चात त्रेता युग में भगवान्
श्री राम ने जन्म लिया था जो क़ी वो संवैय भगवान्
से विष्णु जी के अवतार थे और जब त्रेता युग खत्म
हुआ था उसके पश्चात जब द्वापर युग क़ी शुरुआत
हुई तो उसमे भगवान् विष्णु ने श्री कृष्ण जी का
अवतार लिया और प्रभु श्री कृष्ण जी के रूप में
जन्म लिया |, उस समय महिसासुर ने सभी
देवी-देवताओ को परेशान करा हुआ था जिसके
कारण महिसासुर से रक्षा करने के पश्चात सभी
देवताओं में मिलकर भगवान श्री विष्णु के साथ
मिलकर आधी शक्ति का आवाहन किया उसके
पश्चात् सभी देवताओं के शरीर से एक दृव्य रौशनी
निकलने के पश्चात एक बहुत है खूबसूरत अप्सरा
के रूप में माँ देवी दुर्गा का रूप धारण किया,
जिसके चलते दसवे दिन माँ दुर्गा ने महिसासुर का
अंत कर दिया और तभी से नवरात्री (Navratri) का पर्व मनाया जाने लगा

Navratri - Happy Navratri 2021 (In Hindi) : हैप्पी नवरात्री 2021 (हिंदी में)

दुर्गा पूजा कब और क्यू मनाया जाता है ?
क्या आप जानते है दुर्गा पूजा क्यू करी जाती है ?

बहुत से लोग इसको मनाने के पीछे का कारण
नही जानते क्या आप जानते है क़ी पूजा का अर्थ
क्या होता है तो पूजा का अर्थ होता है आराधना
करना जो सभी भक्त जन बड़ी भक्ति भावना के
साथ करते है ,अथवा दुर्गा पूजा बंगाली पंचांग के
छटे माह अश्विन में बढ़ते चद्रमा क़ी छटी तिथि से
मानना प्रारम्भ किया जाता है किन्तु कभी-कभी
सौर माह में चंद्र चक्र के अपेक्षिक परिवर्तन के
कारण इसके बाद वाले माह कार्तिक में भी इसको
मनाया जा सकता है लेकिन दुर्गा पूजा शान्ति और
हर्ष का प्रतिक है |

Navratri - Happy Navratri 2021 (In Hindi) : हैप्पी नवरात्री 2021 (हिंदी में)

कलश पर नारियल कैसे रखना चाहिए ?

क्या आप जानते है क़ी कलश के ऊपर नारियल
क्यू रखा जाता है हिन्दू धर्म के अनुसार कलश के
ऊपर रखे नारियल को भगवान श्री गणेश जी का
प्रतिक भी मना जाता है ये कलश के ऊपर
नारियल रखना आपको दुर्गा पूजा से लेकर घर में
होने वाली सभी पूजा में देखने मिल जायेगा, किन्तु
लोग ये भूल जाते है क़ी नारियल को किस प्रकार
कलश के ऊपर रखा जाता है, नारियल क़ी
स्थापना इस प्रकार करनी चाहिए क़ी उसका मुख
साथक क़ी तरफ रहे नारियल का मुख उसके सिरे
पर होता है जिस तरफ से वाह अपनी पेड़ क़ी
टहनी से जुड़ा होता है | नारियल हमारी सेहत के
लिए भी भी अधिक फायदेमंद होता है

  • क्या आप रक्षा बंधन के इतिहास के बारे में जानते है ?

जानने के लिए इधर क्लिक करें

पूजा के पश्चात् नारियल का क्या करना
चाहिए ?

हिन्दू धर्म के अनुसार पूजन में सिर्फ 1 है नारियल
रखा जाता है कहा जाता है क़ी पूजा के बाद उस
नारियल को अपनी तिजोरी में रख दे क्यूकी घर
सभी प्रकार क़ी धन्यवाद से जुड़ी समस्या दूर होती
है अथवा रात के समय उस नारियल को निकल
कर किसी भी भगवान् श्री गणेश जी के मंदिर में
अर्पित कर दे |

Navratri - Happy Navratri 2021 (In Hindi) : हैप्पी नवरात्री 2021 (हिंदी में)

कलश कैसे रखा जाता है ?

बहुत से लोग कलश को रखने का सही तरीका नही
जानते जिसके कारण वो किसी भी प्रकार से
कलश को रख देते है अथवा जिस से उनके मन में
चल रही आस्था भग हो जाती है अथवा उनकी
पूजा पूर्ण रूप से सफल नही होती कलश को
रखने का सही तरीका है सबसे पहले आप ताम्बे
या मिट्टी का एक कलश ले जिसको धोने के पश्चात्
उसकी स्थापना कर दे, अथवा उसको 9 दिनों तक
एक है स्थान पर रखा जाता है कलश के अथवा
गंगा जल अथवा साफ जल भर दे, अब उसके बाद
उस जल में सुपारी , इत्र , ध्रुव घास , अक्षत और 1
सिक्का डाल दे अथवा ये करने के बाद कलश के
मुख पर पूजा के धागे से जो क़ी लाल रंग का होता
है उसको बाँध दे और उसके बाढ़ उसके किनारो
पर 5 अशोक के पत्ते रख दे और उसके बाद उसके
मुख को किसी भी ढकन से ढक दे |

तो ये थे नवरात्री (Navratri) से जुड़े हुए कुछ जरूरी प्रश्न | हमे
उम्मीद है क़ी आपको अपने सवालों के जवाब यहाँ
मिल गए होंगे |

Happy Navratri Wishes - click here to Download

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.